Tuesday, December 28, 2010

मैं तो ग़ज़ल सुना के अकेला खड़ा रहा सब अपने अपने चाहने वालों में खो गए

मैं तो ग़ज़ल सुना के अकेला खड़ा रहा
सब अपने अपने चाहने वालों में खो गए

5 comments:

राकेश कौशिक said...

"मैं तो ग़ज़ल सुना के अकेला खड़ा रहा
सब अपने अपने चाहने वालों में खो गए"

बहुत खूब - चंद शब्दों के माध्यम से बड़ी बात

Asha said...

"भावना की नदी में आज तक बहते रहे "
बहुत खूब लिखा है |बधाई |नव वर्ष के अवसर पर
हार्दिक शुभ कामनाएं
आशा

"अर्श" said...

main to gazal sunaa ke akela... ye she'r to marhoom shayeer janaab krishn bihari noor ka hai... aur yahi chahunga ki agar aap is tarah ke kisi bhi she'r ka zikra karen to uske niche uske asl shayeer ka naam zaroor likhen...


arsh

avanti singh said...

krishn bihari noor ji ki bahut hi umda panktiyon ko apne blog par likha aap ne....shukriya..un ki yaaden taza ho gaee ye post pad kar,pahli baar aap ke blog par aana hua,achcha lga yhan aakr...

Anonymous said...

Just wanted to say that you have some awesome content on your website!

Followers

Feedjit